Wednesday, 8 August 2012

यमनोत्री से गंगोत्री, YAMNOTRI TO GANGOTRI



यमनोत्री से गंगोत्री

08.05.2012
और दिनो की तरह आज भी सुबह जल्दी उठ कर 7 बजे तैयार  हो गये पर ड्राइवर सोता रहा . हम 8 बजे के बाद गंगोत्री के लिए रवाना हुए. यमञोत्री से गंगोत्री जाने के लिए हमे वापस बरकोट जाना था. बरकोट से धारासू  के लिए रास्ता जाता है. इस रास्ते पर सड़क के दोनो ओर   चीड़  देवदार के घने  पेड़ो का विशाल जंगल है.  सड़क भी अच्छी  बनी थी. मैने पढा  था इस रास्ते पर शिव जी का मंदिर है जो की ज़मीन के नीचे गुफा मे स्थित है.  मैने ड्राइवर से  इस  बारे मे पूछा तो उसने हाँ  कर दीएक जगह ड्राइवर ने कार रोकी. यहाँ पर 10-12 छोटी-छोटी दुकाने बनी थी. और एक पहाड़ी पर वह मंदिर था. एक दम खड़ी चढ़ाई  थी जैसे तैसे मंदिर  पहुँचापता लगा की एक बार मे केवल 5 आदमी अंदर जा सकते है और करीब 20-25 मिनूट बाद जब वह वापस आते है तब फिर 5 आदमी जाएँगे.  25-30 लोग वहाँ लाइन मे खड़े थे. यह देख कर कई लोग वापस लौट रहे थे. मैने भी वापस लौटना ही उचित समझा क्योकि कम से कम 2 घंटे से पहले हमारा नंबर नही आता. अब कार धारासू बेंड  के लिए चल दी.  दोपहर की गर्मी बढ चुकी थी. धारासू बेंड  के बारे मे पढा  है अक्सर यहाँ   जाम लग जाता हैइस समय भी जाम लगा था पर ज़्यादा इंतजार नही करना पड़ा. 20-25 मिनट  के जाम के बाद  हम लोग उत्तरकाशी सी वाले मार्ग पर पहुच गये. उत्तरकाशी से गंगोत्री 100 किलोमीटर  है. यहाँ से भागीरथी के दर्शन होने शुरू हो गये. उत्तरकाशी मे ड्राइवर ने कार मे तेल  डलवाया और  गंगोत्री के लिए चल दिया. 
उत्तरकाशी से आगे  रास्ते मे  एक  मंदिर

यहाँ पर भागीरथी मे बहुत कम पानी था. ड्राइवर से पूछा तो उसने बताया आगे  भागीरथी पर बाँध बनाया हुआ है मेरे पास चारधाम यात्रा की कैसेट है जिससे इन जगहो के बारे मे थोड़ी बहुत जानकारी हासिल की थी. उसमे ही देखा था, गंगोत्री जाते समय रास्ते मे एक स्थान पर लोग गर्म पानी के कुंड मे स्नान करते है. इस बारे मे ड्राइवर को जब बताया तो उसने बताया  गंगनानी मे   सड़क से  उपर  पहाड़ी पर पराशर मुनि का मंदिर है. वहाँ गर्म पानी का कुंड है जिसमे लोग नहा कर आगे   यात्रा करते है. हम 4 बजे वहाँ पहुँचे इस समय कोई भी स्नान नही कर रहा था. थोड़ी सी हिचकिचाहट हो  रही थी. पर वहाँ खड़े  ब्राहण युवको ने बताया कि यहाँ इसी कुंड मे स्नान करना है. कुंड का पानी काफ़ी गर्म था. . स्नान के बाद  उपर जा कर मंदिर मे दर्शन किए. यही युवक मंदिर का पुजारी भी था. वहाँ अपने परिवार के साथ  था. हमारे वहाँ पहुचने पर वह खुश हो गया सच है अगर मंदिर मे भक्त नही पहुँचे  तो पुजारी का खर्च कैसे चलेगा. युवक पुजारी ने माथे पर तिलक लगा कर कहा मंदिर की परिक्रमा कर लू. पराशर मुनि का छोटा सा मंदिर है और परिक्रमा करने के लिए बहुत पतला गलियारा है केवल एक आदमी ही परिक्रमा कर सकता है. मै   जैसे ही मंदिर के पार्शव स्थान पर पहुँचताज्जुब हुआ फर्श बहुत गर्म था  ऐसा लग रहा था  नीचे से कोई ज़मीन को गर्म कर रहा हो. जब मैने यह बात पुजारी युवक को बताई तब बताया गर्म कुंड का पानी इस मंदिर के नीचे से हो कर जा रहा है इस कारण  यहाँ का फर्श इतना गर्म है. कुंड के गर्म जल का उदगम स्थल मंदिर के नीचे था   साथ मे शिव जी का मंदिर है वहाँ से ठण्डे  जल की धारा बह रही थी. मन मे सोंचा इसे कहते हैं प्रक्रति  का चमत्कार. 
                                                              गंगोत्री   के   रास्ते
हर्षिल  मिल्टरी कॅंप 

                                                        हर्षिल  
ड्राइवर बोला रात यहीं रुक जाते   


झाला पहुँचते-पहुँचते शाम हो चली थी. यहाँ से गंगोत्री 30 किलोमीटर  हैसड़क के किनारे कई होटेल  बने हुए थे  ड्राइवर बोला रात यहीं रुक जाते है. कल सुबह गंगोत्री चॅलेंगे . दरअसल उसके  जानने वाले लोग भी यहाँ रुके हुए थे. अब हमारी श्रीमति बोली “ नही, यहाँ नही रुकेंगे आप गंगोत्री चलो. हम रात मे ही दर्शन करना चाहते है” झाला से आगे   सड़क के दोनो ओर चीड़ छिड़-देवदार के घने व्रछ लगे थे, हर्षिल पहुँचने से पहले  हल्की हल्की बारिश शुरू हो गई,  हर्षिल २६३३ मी. की ऊँचाई पर बसा खूबसूरत कस्बा है  यह गंगोत्री से २५ कि.मी. पहले पड़ता है.  यहाँ रहने-खाने की तमाम सुविधायें हैं. यहाँ के सेब  बहुत प्रसिद्द हैं.  राज कपूर ने अपनी फिल्म 'राम तेरी गंगा मैली'की शूटिंग हर्षिल की खूबसूरत पहाड़ियों,वादियों,झरनों में की थी .
हर्षिल 

यहाँ मिल्टरी का काफ़ी बड़ा कॅंप है.  कस्बे मे जाने के लिए मिल्टरी कॅंप से होकर ही जाते है. यहाँ पर मिल्टरी के जवान तैनात थे. यहाँ से तिब्बत यानी की वर्तमान मे चीन की सीमा नज़दीक ही है इसलिए सेना का कॅंप  है. हर्षिल के बारे मे एक नई जानकारी  मिली की हिमाचल प्रदेश मे सांगला  वैली से आगे बसपा वैली हैहर्षिल  भी बस्पा घाटी के ऊपर स्थित एक बड़े पर्वत की छाया में स्थित है. जबकि बसपा वैली जाने के लिए शिमलारामपुरसराहानकिंनोर सांगला होते हुए पहुँचते है.  यहाँ विदेशियो को आने के लिए पर्मिट लेना होता है. अभी हमे 23 किलोमीटर  ऑर आगे जाना था पर बादलो के कारण अंधेरा तेज़ी से बढ़ रहा था.


हर्षिल से आगे 

हर्षिल से आगे 

हर्षिल से आगे 






हर्षिल से आगे  भागीरथी

                                                    हर्षिल से आगे  भागीरथी
                           हर्षिल से आगे भागीरथी

 भैरो घाटी पहुँहुचते-पहुँचते अंधेरा हो गया था. यहाँ से आगे की सड़क भी टूटी-फूटी थी. ड्राइवर भी धीरे – धीरे  चला रहा था. अब  लग रहा था उजाड़ पहाड़ी रास्ते पर अंधेरे मे चलना आसान नही होता है. मेरी लड़की अपनी मम्मी पर नाराज़ हो रही थी  क्यो नही वही रुक गये. खैर धीरे धीरे, माँ  गंगा का नाम लेते हुए  हम लोग गंगोत्री पहुँच गये. यहाँ चारो ओर लाइटे जल रही थी काफ़ी चहल-पहल थी. अब होटेल ढुड़ने की बारी थी. यहाँ से मंदिर लगभग 500 गज की दूरी पर होगा. मंदिर जाने के रास्ते मे दोनो तरफ दुकाने और होटेल है. मुझे 300 रुपये मे ग्राउंड फ्लोर पर एक  होटेल मिल गया. अभी ज़्यादा भीड़ नही थीज़्यादातर होटेल खाली पड़े थे. समान रख कर  अपनी पत्नी के साथ माँ   गंगा के मंदिर दर्शन के लिए गया. रात के बज रहे थे मंदिर खाली था. पुजारी जी किसी भक्त द्वारा दान दिए गये चाँदी के माँ छ्त्र  को टाँगने मे मग्न थे. दूसरे पुजारी समान व्यवस्थित कर रहे थेमंदिर बंद होने का समय हो रहा था. वही पर मंदिर के सेवादार और एक पंडा खड़े थे. हम लोग आराम से मंदिर के बारे मे पंडा जी से जानकारी लेते रहे. मंदिर मे माँ गंगा की मूर्ति श्वेत संगमरमर की हैसाथ मे जाहनवीसरस्वतीभागीरथ की मूर्ति है. करीब 15 मिनिट हम मंदिर मे खड़े रहे. दर्शनार्थी ना होने की वजह से पुजारी जी एवं सेवादार को भी कोई एतराज नही था खुश हो कर माँ  गंगा का सिक्का भी भेंट स्वरूप दिया. हमे खुशी हुई कि  इतने अच्छे दर्शन कहाँ हो पाते है. पंडा जी ने अपना विज़िटिंग कार्ड  दिया कि  कल  पूजा करवा लेना. पूजा  का मेरा कोई प्रोग्राम तो था नही. दर्शन कर के मंदिर के फोटो खींचे मंदिर मे लिखा था कि  गर्भ ग्रह के फोटो खिचना मना है. इस समय कोई था नही  चाहता तो ज़ूम कर के मंदिर के गर्भ ग्रह के फोटो खींच सकता था पर मन मे विचार आया ऐसा करना उचित नही है और . मैने मंदिर के बाहर बने प्लतेफोर्म से मंदिर के फोटो  खींचे.
रात  मे   गंगोत्री मंदिर 

रात  मे  गंगोत्री मंदिर


09.05.2012
मै सुबह 5 बजे से पहले ही जाग गया,  यहाँ सुबह के समय काफ़ी ठंड   थीठंडे पाने से नहाने को कोई तैयार  नही था. बाहर जा कर  देखा ज़्यादातर दुकाने बंद थी एक दुकान वाले से  गर्म पानी लाया उससे ही सबने जल्दी जल्दी स्नान कियामेरी पत्नी लड़के और लड़की तो 6 बजे से पहले  माँ गंगा की आरती मे शामिल होने पहुँच  गये. मै  जब मंदिर पहुँचा तब तक आरती ख़त्म हो चुकी थी. पर कोई बात नही दर्शनकरने के लिए लाइन मे खड़ा  हो गया. इस समय भीड़ थी इसलिए मंदिर मे दर्शन कर के जल्दी जल्दी दर्शनार्थियो को आगे बढा रहे थे.  हम सभी लोग दर्शन के बाद मंदिर के प्रांगण मे रुके कर आस पास की फोटो खिचने लगे. 

अपनी फैमिली के साथ 


गंगोत्री मंदिर 

गंगोत्री मंदिर से 
मंदिर के पास  भागीरथी

  मंदिर के पास  भागीरथी  

मंदिर के पास  भागीरथी 

मंदिर के पास से ही भागीरथी बह रही है.

गंगोत्री मंदिर से 

गंगोत्री मंदिर से 

  गंगोत्री मंदिर  के पास  

  सूर्या कुंड

  सूर्या कुंड

  सूर्या कुंड

गौरी कुंड  


                    सूर्या कुंड से हिमालय

देखा मंदिर के पास से ही भागीरथी बह रही है. यहाँ पर भागीरथ का छोटा सा मंदिर है. हम लोग भी भागीरथी के किनारे खड़े ही कर निहार रहे थे. सुबह के 7 बाज रहे थे धूप खिली हुई थी. आस पास का वातावरण बहुत सुंदर लग रहा था . कुछ लोग इस ठंडे मौसम मे भागीरथी मे स्नान कर रहे थे. मैने पत्नी से नहाने को कहा  पर उनकी तो हिम्मत नही हुई. मैने कहा ठीक है तुम मेरे कपड़े और मग ले आयो आओ मॅ तो स्नान करूँगा  होटेल पास ही था वह जाकर सारा समान ले आई. यहाँ सभी लोग मग से ही नहा रहे थे. एक सज्जन को देखा वह जितनी तेज़ी से भागीरथी मे घुसे  थे उतनी ही तेज़ी से वापस किनारे पर आ गये. मैने भी किनारे के एक पत्थर पर बैठ  कर जब पहले दो मग जल अपने उपर डाला तब तक तो ठीक लगा पर उसके बाद तो बर्फ जैसे ठंडे पानी से नहाना कठिन हो गया,  जल्दी जल्दी जल को अपने उपर डाला और पत्थर से कूद कर बाहर आ गया. स्नान के बाद धूप अगरबत्ती जला कर गंगा जी की पूजा की और अब कुछ करना नही था वहीं सीढ़ियो बैठ  गया.. भागीरथी के किनारे कुछ लोगो को पंडा लोग पूजा करवा रहे थे तभी एक पंडा हाथ मे पूजा की थाली लिए हुए हमारे पास आए और पूजा करवाने का आग्रह करने लगे. पूजा तो  कर चुका था पर उनके आग्रह को देखते हुए मैने कहा 51 रुपये दच्छिना के दूँगाताज्जुब हुआ वह राज़ी हो गये. पूजा तो पूरे परिवार के साथ होती है पर इस बीच मे मेरा लड़का होटेल चला गया था. पंडा जी बोले आप उसे बुला ले तब तक मेरी थाली आपके पास रखी है. अब फिर मेरी पत्नी उसे बुलाने होटेल गयी,वहाँ उनको देर लगी,  इसी बीच मे पंडा जी कोई दूसरा भक्त मिल गया और वह थाली ले कर बोल गये ,  एक दूसरे की पूजा सम्पन करा कर आता हू. अब मज़े की बात देखे कि कल रात जो पंडा जी मंदिर मे मिले थे वह आ गयेमुझसे पूजा करवाने के लिए बोले. मै तो उन्हे पहचान नही पाया.  मैने कहा  एक और पुजारी जी पूजा के लिए बोल गये हैअभी आ रहे होंगे. तब वह बोले मैने तो आपको कल रात ही अपना कार्ड दिया था और पूजा  के लिए कहा था. तब मेरी पत्नी मेरे से  बोली  कल रात यही तो मंदिर मे थे.अब मुझे याद आया. मैने कहा ठीक है पर मैने तो दूसरे से 51 रुपये मे तय किया हुआ है. वह बोले कोई बात नही मै  भी आपकी पूजा इतने रुपये मे ही सम्पन करवाउंगा . उन्होने पूजा आरंभ की और गंगा के महात्म को समझाते हुए  ढंग से पूजा सम्पन करवाई. अब मैने अपनी पत्नी को बोला की इनको 51 नही 101 रुपये दक्छिणा  दो. खुशी होती है जब कोई अपना कार्य ईमानदारी  से करता है.
अब हम लोग  मंदिर के प्रांगण मे आ गये . पता लगा था 9 बजे माँ गंगा को भोग वितरित किया जाता है. भोग मे केसर युक्त  मीठे चावल दिए गये.
भूख लग रही थीपहले जाकर एक रेस्टोरेंट मे  आलू के पराठे का नाश्ता किया. यहाँ हमने बोतल बंद पानी का प्रयोग ना कर जो सप्लाइ का पानी आ रहा था वही पिया. चलते समय भी मैने अपनी ठंडे पानी की 2 लिटेर की बोतल मे यही पानी भर लिया. विचित्र बात रास्ते मे  किसी ने भी बोतल बंद पानी नही पिया  इसी पानी से प्यास बूझाते रहे. यहाँ का पानी इतना स्वादिष्ट  था की बोतल बंद पानी पीना कोई पसंद  नही कर रहा था. गंगोत्री मंदिर से थोडा आगे  सूर्या कुंड है.
हम सूर्या कुंडगौरी कुंड देखने पहूँचे. सूर्या कुंड से थोडा आगे  गौरी कुंड है यहाँ भागीरथी  दो पहाड़ो के बीच से एक पतले से गलियारे से होकर तेज बेग से बह रही है 15-20 मिनिट रुक कर वापस चल दिए.
समय दोपहर के करीब 12 बजे के आस पास होगा जब हम गंगोत्री से वापसी के लिए प्रस्थान किया. गंगनानी मे रुक कर दोपहर का भोजन किया.  चम्बा पहूँचते 8 बज गये. चम्बा पहाड़ो पर बसा घनी आबादी का शहर है. मौसम भी यहाँ गर्म था. रात एक होटेल मे गुज़री सुबह 8 बजे हम ऋषिकेश के लिए चल दिए. 10 बजे हमे ऋषिकेश बस अड्डे पर उतार दिया. गंगोत्री यमञोत्री की यात्रा हमे उसने 4 दिन मे करा दी लेकिन पैसे उसने 5 दिन के हिसाब से 10500 ही लिए. ऋषिकेश बस स्टॉप पर  अभी कार से समान उतार कर रखा ही था तभी  लोकल टीवी चैनेल  के 2 लोग अपना कॅमरा लिए हुए आए पूछा आप लोग चार धाम यात्रा करके आ रहे है. मेरे हाँ कहने पर बोले हम लोग चार धाम यात्रा पर एक रिपोर्ट  बना रहे हैआप बतायँगे की वहाँ पर खाने पीने की कैसी व्यवस्था है. खाना हाइजेनिक है या नही. प्रशासन की तरफ से खाने की चेकिंग की जा रही या नही. बोतल बंद पानी कही एक्सपाइर्ड तो नही बेचा जा रहा है. सुन कर हंसा मैने कहा की यात्रा तो अभी शुरू हुई है पानी की एक्सपाइर्ड बोतल वहाँ कहाँ से आ गयी . और जहाँ तक खाने का सवाल है तो यह सामने ढेले पर जो समान बेंच रहे है यह क्या हाइजेनिक है. अगर आपको चैनेल पर दिखाना है तो यमञोत्री पर जो 100 रुपये की पर्ची कटी जा रही है उसके खिलाफ दिखाएरास्ते मे सड़के  टूटी-फूटी हैबनी नही है उसके उपर क्यो नही दिखाते. जबकि चारधाम यात्रा शुरू होने स पहले पेपर मे न्यूज़ आ  जाती है की सारी तैयारी कर ली गयी हैं . यह कैसी तैयारी  है. वह बोले नही हमारा यह विषय नही है. मैने कहा ठीक है मेरे को भी आपके विषय से संबंधित कोई आपत्ति नही नज़र आई. हमारी बस 11 बजे की थी. हम आराम से अपने घर 4-30 बजे पहुँच गये. इस तरह से हमारी दो धाम यात्रा  सम्पन्न हुई. .

हरिद्वार से यमनोत्री, YAMNOTRI

हरिद्वार से यमनोत्री
इस वर्ष 2012 मे जब पता लगा की गंगोत्री यमनोत्री   के पाट 24 अप्रैल को खुल रहे है ,मन मे विचार आया की इस बार दर्शन अवश्य हो जाएँगे. . पिछले साल ही जाना था पर कुछ कारण वश जा नही सका.  अब जबकि द्वार अप्रैल  मे खुल रहे थे इसलिए उम्मीद थी कि ज़्यादा भीड़ नही होगी.आराम से दर्शन होंगे और ठहरने आदि की  भी कोई समस्या नही आएगी. क्योकि जैसे- जैसे भीड़ बढ़ती है त्यो त्यो ही हर तरह की परेशानी भी आती है, आपको टॅक्सी कार , होटेल मँहगा मिलता है, , और सबसे बड़ी बात है कि आप तो दर्शन के लिए वहाँ जा रहे है अगर वही ढंग  से ना हो तो यात्रा अधूरी लगती है. मन को संतुष्टि नही मिलती है . यही सोंच कर मै अपना प्रोग्राम या तो शुरू मे बनाता हूँ या यात्रा के  आख़िर मे जब ज़्यादा भीड़ होने की गुंजाइश कम हो ,
पिछली साल मै अमरनाथ यात्रा पर गया था. जब वहाँ के फोटो फेसबुक पर अपलोड किए तब हमारे कुछ मित्रो ने कहा  कि अगली बार जब भी  यात्रा पर जाओ तो हमे भी साथ ले चलना. अब जब मैने गंगोत्री-यमनोत्री का प्रोग्राम बनाया तो उनसे पूछा  पर कोई भी साथ चलने को तैयार  नही हुआ. एकला चलो रे की तर्ज पर  मै   अपनी फैमिली के साथ 5 मई  को सुबह 7 बजे से पहले ही मोहन नगर हरिद्वार जाने के लिए पहुँच गया. अगले दिन पूर्णिमा थी इस  कारण से कई बस वगैर रुके चली जा रही थी,टॅक्सी भी नही जा रही थी.  ऐसा पहली बार हुआ वरना मोहन नगर से हरिद्वार जाने की कभी समस्या नही होती है. हम हर बार  आराम से हरिद्वार पहुँच जाते थे , खैर एक बस रूकी.  बस मे काफ़ी भीड़ थी. चारो  लोगो  को अलग अलग  सीट मिल गई. कुछ सवारी तो खड़े-खड़े सफ़र कर रही थी. 1 बजे हरिद्वार पहुच गये. होटेल पहले ही बुक कर लिया था  ठहरने की कोई समस्या नही थी. अभी 20-25 दिन पहले मै  अपने और अपने साले के परिवार के साथ यहाँ आए थे. और इसी होटेल हेवेन मे ठहरे थे. यह होटेल हर की पौड़ी  के पास गंगा के सामने है.  सामने बहती हुई गंगा के दर्शन होते रहते है. होटेल साधारण है पर व्यू पॉइंट अच्छा है.  इस बार भी यहाँ ही ठहरने का प्रोग्राम बनाया था. रूम का किराया उसने 500 रुपये चार्ज किया.   होटेल वाले से पहले ही बता चुके थे कि हमे आगे यमञोत्री गंगोत्री जाना है और वहाँ जाने के  लिए बस, टॅक्सी का इंतज़ाम कर दे. आम तौर पर हर होटेल वाले के टॅक्सी , बस ऑपरेटर वालो से कमीशन तय होता है और यह लोग इस तरह का इंतज़ाम ठीक  करवा देते हैमेरे पहुँचते ही होटेल वाले ने कई जगह फोन मिलाने शुरू कर दिए. फिर बोला  इस समय छोटी कार से यमञोत्री गंगोत्री जाना ठीक नही है क्योकि रास्ता काफ़ी खराब है आपको बड़ी गाड़ी बेलोरो, स्कॉर्पियो . टाइप लेनी होगी. उसने दोबारा एक दो लोगो से बात कर के बताया की बेलोरो गाड़ी तय की है जिसका मुझे 5 दिन का किराया 2100  के हिसाब से 10500 देना होगा. मुझे लगा यह ठीक मोंग रहा है मैने हाँ कर दी. वेलोरो मे 8 लोग ट्रॅवेल कर सकते है पर हम 4 लोग ही थे, मैने दिल्ली  मे अपने कुछ एक मित्रो को फोन भी किया कि  4 सीट खाली है आ जाओ पर कोई भी इतने शॉर्ट नोटिस पर चलने को तैयार  नही हुआ. होटेल वाले ने बताया  अगले दिन यानी  रविवार को सुबह 8 बजे कार आ जाएगी, चलने के लिए तैयार   रहे. अब सब लोग आराम करने लगे ,   शाम को हर की पौड़ी पर पहुँचे , पूर्णिमा पर गंगा स्नान के लिए काफ़ी भीड़ होती है. हर की पौड़ी पर काफ़ी भीड़ हो रही थी. अभी आरती मे देर थी, फटाफट  गंगा मे डुबकी लगा ली. गंगा स्नान के थोड़ी देर बाद आरती शुरू हो गई. इतनी भीड़ थी ना तो  आरती दिख रही थी और ना ही खड़े होने की जगह थी. पहले हरिद्वार मे गंगा आरती मे इतनी भीड़ नही होती थी पर अब तो हर जगह भीड़ ही भीड़ नज़र आती है.


video


 आरती के बाद बाहर आने मे  आधे घंटे से ज़्यादा वक्त लग गया . रात मे होशियारपुर के नाम से एक रेस्टोरेंट  मे खाना खाया. इस रेस्टोरेंट  का काफ़ी नाम है , खाना भी अच्छा होता है. दूसरे दिन यमञोत्री के लिए प्रस्थान करना था हम लोग 10 बजे होटेल पहुँच सोने की तैयारी करने लगे.

हर की पौड़ी

हर की पौड़ी



हर की पौड़ी
हर की पौड़ी


06.05.2012.
आज रविवार को पूर्णिमा थी, हमारा होटेल गंगा के किनारे था , सुबह  उठ कर देखा, दूर-दूर तक गंगा मे स्नान करने वालो की भीड़ लग रही थी. हम भी नित्यकर्म से निवृत हो कर सुबह 7 बजे   गंगा स्नान के लिए पहुँच गये. हर की पौड़ी  पर नहाने वालो का हजूम लगा था. हर की पौड़ी  के सामने जो बीच मे टैरेस बना हुआ है वहाँ  भीड़ भी कम होती है और पानी भी कमर तक  गहरा होता है. आराम से डुबकी लगा सकते है. यहाँ पर भी नहाने के लिए काफ़ी भीड़ थी. नहाने के लिए स्थान ढूंड       रहा था की तभी देखा 4-5 यरोपियन   लेडी और 1-2 पुरुष  भी वहाँ स्नान के लिए आए थे.  उत्सुकता जागी,  रुक कर देखने लगा, वह लोग एक-एक कर स्नान कर रहे थे और उनके दूसरे साथी कपड़े  का कर्टन बना कर कपड़े बदलने मे मदद कर रहे थे. तभी देखा एक पंडा उनके पास गया फिर कुछ बात कर वापस आ कर वहाँ घूम रहे 2 गंगा सेवा दल के नाम पर चंदा उगाहने वालो के साथ उनके पास   पहुँच  गया. थोड़ी देर के बाद देखता हूँ 500 रुपये का नोट ले कर सेवादल के लोग विजये मुद्रा मे वापस लौट रहे थे.
मुझे देख कर बहुत गुस्सा आया. यह विदेशी तो हमारे मेहमान है हमे इस तरह से उनसे चंदा वसूलने का कोई अधिकार नही. गंगा के नाम पर इन लोगो ने हर की पौड़ी  पर लूट मचा रखी है. जबकि  इस  तरफ स्त्रियो के कपड़े बदलने की कोई व्यस्था नही है. हज़ारो लोग नहा रहे होते है और स्त्रियो के कपड़े बदलने के लिए केवल हर की पौड़ी   पर ही स्थान है. अब हर कोई तो हर की पौड़ी   पर स्नान कर नही सकता.
video

इससे पहले  मै जब कभी हर की पौड़ी    जाता था तब उन लोगो को दान अवश्य करता था पर इस बार इन लोगो की हरकत देख कर मन वितृष्णा से भर गया. कई बार इन लोगो ने दान माँगने की  चेष्टा की पर मैने निश्चय कर लिया था की इन पड़े लिखे भिखारियो को एक पैसा भी नही दूँगा. बताते है लाखो रुपये दान के रूप मे बटोरते है पर हर की पौड़ी के आस-पास कपड़े बदलने की व्यस्था नही कर सकते. यहाँ मैने देखा है अगर आप यहाँ थोड़ी देर  ठहरते है और  दान दे कर रसीद ले भी लेते है पर थोड़ी- थोड़ी देर के बाद दूसरा आ जाएगा, फिर तीसरा  आ जाएगा. जब तक आप हर की पौड़ी  पर रहते है यह क्र्म चलता रहता है. आप को बार-बार रसीद दिखानी होती है. बताना होता है भय्या हम दान कर चुके है, पर यह यही पीछा नही छोड़ते है फिर कहेंगे हम भंडारा चलाते है उसकी रसीद कटवा लो. इस विषय पर मैने वहाँ के डी. म.  को मेल  भी भेजी पर कोई जबाब नही आया. स्नान के बाद वापस होटेल पहुँच कर  यमञोत्री जाने के लिए समान पॅक करना शुरू कर दिया. लगभग 9 बजे टॅक्सी आई हमने जल्दी से समान रखा और टॅक्सी मे बैठ गये. यमञोत्री जाने के लिए  दो रास्ते है एक तो ऋषिकेश-चम्बा धारासू  होकर है दूसरा देहरादून- मसूरी केंपटि  फॉल हो कर है. देहरादून वाला रास्ता ज़्यादा सही है इसलिए मैने ड्राइवर को देहरादून हो कर चलने के लिए कहा.. अब हमारी कार देहरादून के बाहर से होती हुई 12 बजे  मसूरी   पहुँचे. हमे यहाँ रूकना तो था नही , मसूरी का चक्कर लगते हुए  कार केंपटि  फॉल वाले रास्ते से आगे  बढ़  गई. केंपटि  फॉल  जो की मसूरी से 18 किलोमीटर  है. पहुँचने मे आधा- पौना  घंटा लगा. दोपहर का वक्त था अभी ज़्यादा भीड़ नही थी. अक्सर छुट्टी के दिनो मे  यहाँ तो काफ़ी  बड़ा जाम लग जाता है. केंपटि फॉल  40 फिट की उँचान से गिरता है .   8 साल पहले  ऑफीस के टूर पर यहाँ आया था , तब  और अब मे बहुत अंतर नज़र आ रहा था. अब तो पूरा एरिया ही कॉमर्शियलाइज़्ड हो गया है , कई होटेल सड़क के किनारे नये  बन  गये है.लग रहा था  छोटा सा शहर बन गया है.  अब हमारी कार यमुना के किनारे चली जा रही थी. यमुना नदी जो की दिल्ली पहुँचते पहुँचते इतनी विशाल हो जाती है, पर यहाँ तो वहूत कम पानी था. हमारी कार पहाड़ की घुमाव दर रास्ते से आगे  बढ़  रही थी. करीब 2 बजे ड्राइवर ने बरकोट से  पहले यमुना नदी के किनारे बने एक छोटे से होटेल पर खाना खाने के लिए रोका. सुंदर द्र्श्य  था , नीचे गहरी घाटी मे यमुना बह रही थी. मौसम भी खुशनुमा था, ठंडी-ठंडी हवा बह रही थी. इस माहौल मे खाना खाना अच्छा लग रहा था. 15-20 मिनट मे हम खा पी कर कार मे बैठ गये. अब कार  बरकोट के लिए चल दी. बरकोट तक रास्ता साफ सुथरा था पर बरकोट के बाद सड़क टूटी-फूटी थी. कई जगह तो रास्ता बहुत खराब था. बरकोट से स्याना चट्टी तक एक दो जगह सड़क सही मिली वरना ज़्यादातर टूटी सड़क पर ही कार चल रही थी. अब समझ मे आया क्यो होटेल मॅनेजर मेरे से बड़ी गाड़ी से जाने को कह रहा था. इस खराब रास्ते पर हल्की गाड़ी से चलना अपने लिए एक परेशानी लेना होता है. स्याना चट्टी पहुँचते- पहुँचते मौसम बदलने लगा था. वारिश का मौसम हो गया था. थोड़ी ही देर मे हल्की हल्की वारिश भी शुरू हो गई . स्याना चट्टी से आगे की सड़क साफ सुथरी  बनी थी. सड़क के किनारे हारे-भरे पेड़ लगे थे.  स्याना चट्टी से करीब 21 किलोमीटर  जानकी चट्टी है . जानकी चट्टी तक सड़क बन जाने के कारण अब लोग वहाँ ठहरते है पहले फूल चट्टी , हनुमान चट्टी से पैदल यमनोत्री   तक जाना होता था. घंटे भर मे हम स्याना चट्टी से जानकी चट्टी पहुँच गये. शाम के 7 बाज रहे थे पर अभी अंधेरा नही हुआ था. यहाँ पर होटेल वालो के एजेंट घूम रहे थे बात चीत से पता लग गया 500 रुपये मे अच्छा होटेल मिल जाएगा. हमे सबसे लास्ट मे जहाँ से चढ़ाई  शुरू होती है  4 बेड का काफ़ी मोल भाव कर के 500 रुपये प्रति दिन के हिसाब से मिला. हालाँकि होटेल वाले ने 1000 रुपये माँगे थे. शाम ढल चुकी थी और मौसम भी ठण्डा हो गया था. सारे दिन के सफ़र के बाद थकान महसूस हो रही थी. होटेल के सामने होटेल वाले का रेस्टोरेंट  था  जहाँ होटेल वाले ने बताया  जाकर खाने का ऑर्डर लिखवा दो रूम सर्विस इन जगहो पर कम ही मिलती है. यहाँ पर  पहले से ऑर्डर देना पड़ता है. तब जा कर  खाना मिलता है 
हम देर से पहुचे थे हमे देर से    रात के 9.30 बजे जाकर खाना मिला.
जानकी चट्टी  होटेल से खींचे फोटो

जानकी चट्टी  होटेल से खींचे फोटो

जानकी चट्टी  होटेल से खींचे फोटो

जानकी चट्टी  होटेल से खींचे फोटो

जानकी चट्टी  होटेल से खींचे फोटो 


07.05.2012
मै  सुबह 5 बजे ही उठ गया. एलेक्ट्रिक केटली मे 2 कप चाय  बनाई. बाहर देखा हल्का सा दिन निकालने लगा है , कॅमरा ले कर होटेल की दूसरी मंज़िल पर पहुँच गया और  आस-पास के खूबसूरत नजारो के फोटो खींचे. 7-7.30 बजे यमञोत्री के लिए चलना शुरू कर दिया.  होटेल के बाहर ही दुकाने थी जहाँ डंडे मिल रहे थे. पहाड़ो पर चढ़ते समय इन डंडो  से बहुत आराम रहती है. 50 रुपये  के चारो के लिए 4 डंडे लिए  दुकानदार ने बताया की वापस करने पर आधे पैसे वापस मिल जाएँगे. जानकी चट्टी से यमञोत्री मंदिर की दूरी 6 किलोमीटर है. हमे लगा की ज़्यादा दूरी तो है नही आसानी से चढ़ जाएँगे पर थोड़ी देर बाद ही लग गया कि  चढ़ाई   इतनी आसान नही है. मुझे ऐसा लगा कि  यमनोत्री   की  चढ़ाई   वैष्णो देवी की पुराने वाले रास्ते जैसी  है. सीढ़ी नुमा. 6 किलोमीटर की चढ़ाई हमने 3 , घंटे मे पूरी की.  केदारनाथ के रास्ते से काफ़ी सही है.पूरी चढ़ाई  यमुना के किनारे किनारे है. रास्ता काफ़ी सुंदर हरा भरा है. रास्ते मे फोटो खिचते हुए  बदते रहे. एक बात मैने महसूस की, कि पैदल  आप प्रक्रति का जो आनंद ले सकते है वह घोड़े या पालकी से कभी नही.  रास्ते मे देख रहा था कई नवयुवक घोड़े पर चले जा रहे थे. और कुछ तो पालकी से जा रहे थे. देख कर आश्‍चर्य हुआ और अफ़सोस भी की आज कल के इन नौजवानो को क्या हो गया है जो अपने शरीर का बोझ भी अपने पैरो पर नही उठा सकते. अपने शरीर को दूसरे के कंधो पर ले कर जा रहे है. पता नही  अत्यधिक पैसे  ने उनको इतना आराम तलब बना दिया है कि  अब उनका शरीर  इस लायक नही रहा कि  वह अपना बोझ ले कर चल सके. सबसे बड़ी बात कि उनके चेहरे पर कोई शिकन नही थी.
रास्ते मे फोटो

यमनोत्री   की  चढ़ाई

मंदिर पहुँच कर  गर्म कुंड मे स्नान किया. यहाँ पर काफ़ी भीड़ थी. पर स्नान मे कोई दिक्कत नही हुई. कुंड का  जल ज़्यादा गर्म ना हो इसलिए ठंडे पानी की  पतली धार कुंड मे गिर रही थी. और यह ज़रूरी भी था क्योकि इस कुंड से उपर दिव्य शिला पर जो कुंड है उसमे तो इतना गर्म पानी है कि सभी लोग पूजा के चावल उसमे पकाते है. जैसा कि  मैने पढ़ा था की दर्शन से पहले मंदिर के बाहर दिव्या शिला का पूजन करते है उसके बाद दर्शन के लिए जाते है. गर्म कुंड मे स्नान कर के कपड़े बदल ही रहा था कि  तभी पंडा लोग आ कर पूजा करने का आग्रह करने लगे. पूजा तो करनी ही थी मैने पूजा से पहले  पंडा से पूछ  लिया की कितने पैसे लोगे पर सभी कह रहे थे आप अपनी श्रधा  से दे देना. कई लोगो ने डरा दिया था की यहाँ पंडा लोग बहुत पैसे  ले लेते है. इसलिए मैने पहले ठहरा लेना उचित समझा. जब वह श्रधा  की बात करने लगे तो मैने कहा 201 रुपये दूँगा. वह बोले ठीक है अब हम अपने परिवार के साथ उनके  मंदिर के पास बने प्लेटफोर्म पर पहुचे. यहाँ पर बहुत सारे लोगो को पंडा लोग पूजा करवा रहे थे एक जगह बैठा कर पूजा करनी शुरू की. मै  समझा करता था कि   कोई शिला  होगी पर शिला तो कोई नज़र नही आई तब मैने पंडा जी से पूछा तो उन्होने बताया की जिस स्थान पर बैठे है यही दिव्या शिला है. पूजा के बाद पंडा जी ने कहा, अब आप लोग माँ  यमुना जी के दर्शन कर लो जब तक आपके चावल भी पक जाएँग. यमञोत्री मे प्रसाद  के रूप मे चावल गर्म कुंड मे पका कर यात्री ले जाते है. मंदिर मे ज़्यादा भीड़ नही थी माँ यमुना की मूर्ति काले पत्थर की  बनी है उनके साथ माँ  गंगा की भी मूर्ति स्थापित है. दर्शन कर  के बाहर आया तब तक पंडा गर्म कुंड मे पके हुए चावल की पोटली ले कर आ गये. मैने कही पढ़ा था की यहाँ एक ऋषि रहते थे जो रोज गंगा नहाने पहाड़ पार कर के गंगोत्री जाते थे जब वह काफ़ी उम्र  के हो गये और पहाड़ पार  कर जाना संभव नही हुआ तब माँ  गंगा से उन्होने प्राथना की तब गंगा वही प्रकट हो गई . कहते है यहाँ यमनोत्री मे एक धारा गंगा की भी  बहती है. मैने जब इस बारे मे पंडा जी से पूछा तब उन्होने अनभीग्यता प्रकट की. अब मैने सोचा की यहाँ तक आए है तो यमुना जी का जल तो ले चलना चाहिए. मंदिर के साथ से ही यमुना जी बह रही है. 1-2 लोग वहाँ पर जल ले रहे थे मैने भी एक बोतल मे जल भरापत्नी और बच्चो को भी बुला कर यमुना जी के दर्शन कराए. एक तरह से यहाँ पर यमुना जी पहले दर्शन होते है. यमुना जी का जल एक दम स्वच्छ  पारदर्शी है और पीने मे बहुत अच्छा लगा यही जल दिल्ली पहुच कर किस अवस्था मे हम कर देते है यह तो दिल्ली वाले ही जानते है. जल इतना ठंडा था कि   बड़ी मुश्किल से बोतल मे भर पाया. वहाँ पर  एक और मंदिर है राम सीता और हनुमान जी का जिसके पुजारी जी पूरे साल वही रहते है. हम भी दर्शन करने गये.

                                                     हनुमान चट्टी से
                                                       हनुमान चट्टी से
                                                                         यमनोत्री 
                                                                        यमनोत्री 
                                                              यमनोत्री   की  चढ़ाई
                                                                      यमनोत्री 
                                          मंदिर के साथ यमुना जी  

                                                     मंदिर के साथ यमुना जी  
मंदिर के साथ यमुना जी  

मैने भी एक बोतल मे जल भरा

अब हम सब वापस चल दिए. मै  समझता हू  तेज़ी से नीचे उतरना ज़्यादा आसान होता है   नीचे उतरते हमे 4.30 बज गये. अब  आगे जाने का प्रोग्राम मैने कॅन्सल कर दिया रात मे यही जानकी चट्टी मे रुकने का प्रोग्राम बनाया. मंदिर जाते समय एक बात और देखने को मिली जब हम भैरो मंदिर के  पहले पहुँचे, यहाँ 4-5 लोग हर घोड़े, पिटढू, पालकी वाले से रसीद चेक कर रहे थे. पता लगा की यह रसीद नीचे जब यात्री इन लोगो को तय करता है तब कटनी होती है. 100 रुपये प्रति घोड़ा, या पिटढू के हिसाब से यात्रियो को देना होता है. हम लोग तो पैदल चल रहे थे और अपना  समान अपने कंधो पर था  हमने पिटढू किया नही था  इसलिए हमे तो पता ही नही लगता परंतु वहाँ एक  स्त्री झगड़ा  हो रहा था, उसका कहना था कि उसने  रसीद कटवाई थी पर  उस पर कटिंग होने के कारण वह लोग 100 रुपये और माँग रहे थे. . मतलब यह की अगर आप यमञोत्री मे घोड़ा, पिटढू, पालकी करते है तो आपको 100 रुपये का टॅक्स भरना होगा. सोंच कर गुस्सा भी आया कि  एक  तो यात्रियो से यहाँ के लोगो को रोज़गार मिलता है और उपर से यात्रियो से टॅक्स भी वहाँ की पंचायत वसूल  रही है. और कोई भी इस टॅक्स वसूली के खिलाफ आवाज़ भी नही उठा रहा है. मेरी नज़र में  तो उत्तराखंड की सरकार वास्तव मे बहुत ग़लत कार्य कर रही है.